सफेद घर में आपका स्वागत है।

Sunday, March 4, 2012

'चिलम झार' पूछ-पछोर

 "देखिये यदि हमारी पार्टी को कम सीट मिला तो हम विपच्छ में बैठेंगे"

 "इतने संत हो गये आप" ?

 "संतई वाली बात नहीं".

 "फलाने जी कह रहे थे कि उन्हें 'उनसे' और 'उनकी उनसे' गठबंधन करने में एतराज नहीं" !

 "वो उनके स्वतनतर बिचार है".

 "तो आपके क्या परतंत्र विचार है" ?

 "आप बात को गलत दिसा दे रहे है".

 "जी मैं केवल तसदीक कर रहा हूं".

 "तसदीक करने के लिये क्या यही तरीका रह गया है कि किसी के मुँह में बात डालकर कहवाया जाय" ?

 "बात न डालें तो क्या बांस डालें" ?

 "जी" ?

 "जी मैं कह रहा था आपके फलाने प्रवक्ता जी कह रहे थे कि अलाने की 'उनकी से' सम्पर्क में हैं".

 "तो सम्पर्क में रहने से क्या होता है, इस समय हम ही आपसे सम्परक में हैं".

 "तो आप सच बात कैमरे प बोलने से डरते हैं" ?

 "हम नहीं डरते, पार्टी का कैडर तय करता है कि किसे बोलना चाहिये किसे नहीं".

 "कैडर माने क्या और कौन लोग होते हैं जरा खुलासा करेंगे" ?

 "आप लोग इस सब में क्यों पड़ते हैं" ?

 "हाईकमान माने क्या और कौन लोग होते हैं जरा बतायेंगे" ?

 "आप फिजूल के प्रश्न मत पूछिये काम की बात करिये" ।

 "अच्छा बताइये कि आप की पार्टी को कम सीटें मिलने का कारण कहीं घमण्ड तो नहीं है" ?

 "कामयाब होने से पहले तक सभी को घमण्डी होने का हक है".

 "ये तो बेंजामिन डिजरायली के विचार हैं".

 "तो हम कौन से डिजरायली से कम हैं".

 "आपके युवराज फेल होते दिख रहे हैं".

 "इसमें आप लोग क्यों मजा ले रहे हैं" ?

 "मजा लेने वाले हम कौन होते हैं.....हम तो केवल बात पूछ रहे है".

 "तो ढंग का पूछो न" !

 "ढंग की परिभाषा बताइये हम उसी ढंग से पूछेंगे" !

 "आपके चैनल हेड को पता होगा उसी से पूछिये".

 "इस वक्त तो मैं आप ही से पूछ रहा हूं....उनसे मैं बाद में पूछ लूंगा...."

 "आप मेरा वक्त जाया कर रहे हैं".

 "वक्त जाया हो रहा है मतलब आप बता सकते हैं कि यदि मैं आपसे इस वक्त बात न करता तो आप कौन सा ऐसा जरूरी काम कर रहे होते कि लगता कि सदुपयोग कर रहे हैं".

 "ये मैं आपसे नहीं कह सकता".

" हमारे खुफिया कैमरे से पता चला कि आप फलां फलां काम कर रहे थे - ये देखिये क्लिप जिसमें दिख रहा है कि आप घर में ठीक इसी वक्त कटहल छील रहे थे....उसके बाद आपने मेथी तोड़ने में श्रीमती जी की मदद की.....बाद में भिण्डी भी काटी......आंटा गूंथने जा रहे थे कि तभी किसी का फोन आ गया...आपने आंटा लगे हाथ से ही फोन रिसीव किया और श्रीमती जी के पैर छूकर माफी मांगते दरवाजे की ओर भागे.....आप लाल बत्ती वाली गाड़ी में बैठे और सीधे पार्टी कार्यालय पहुंचे....वहां जाकर ......"

"एक मिनट पहले तो आप ये बंद किजिये.....बंद किजिये आप....मैं आप के चैनल पर केस कर दूंगा...."

 "जी आप उसके लिये स्वतंत्र हैं लेकिन..."

 "लेकिन वेकिन की मां की #$%$%%....तू बन्द कर पैण दे ट%%%......हमारे घर में कैंमरा लगाकर &^%$^ हमें बदनाम कर रहा है....विरोधियों से मिला हुआ है तू और तेरा चैनल ....हमें भिण्डी काटता हुआ दिखा कर तू साबित क्या करना चाहता है ...."

 "भिण्डी काटने में विरोधी कहां से आ गये..."

 "मैं कहता हूं बन्द कर क्लिपिंग"

 "हम ये जानना चाहते हैं कि पार्टी दफ्तर में ये कौन लोग थे जिनके...."

 "बसेसर...लाइन काटो.....फोन मिलाओ इसके चैनल हेड से....."

- सतीश पंचम

12 comments:

Vivek Rastogi said...

हे हे पहले इतनी फ़ेंकों कि पंखे में भी नहीं लपेटी जाये अब हारेंगे तो पहले से ही भूमिका बनाना शुरू कर दिया, इसे कहते हैं, राजनीति

abhi said...

हमें भिण्डी काटता हुआ दिखा कर तू साबित क्या करना चाहता है....

Mast..Majedar...Awesome!! :) :)

Er. Shilpa Mehta said...

:)

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

ऐसी मुक्कालात होती नहीं मगर ऐसी मुलाकात होनी चाहिये! हम चर्चाकार होते तो इस पोस्ट की चर्चा कर डालते और यदि सम्पादक होते तो आपसे सम्पर्क अवश्य करते अगर किसी खास "चैनल-हैड" से "मिले" होते तो इस व्यंग्य पर एक "व्यंग" ज़रूर लिखते - सेर को ढाई कुंतल!

बहुत सुन्दर!

Sanjeet Tripathi said...

shandar

Vijay Mishra said...

very good..............

काजल कुमार Kajal Kumar said...

टी0 वी0 चैनलों वालों की तो पांचों घी में... दर्शकों के लिए तो घंटों के प्रोग्राम बना ही रहे हैं, पर्दे के पीछे सरकारें बनाने के मौसम का भी उचक-उचक के खूब मज़ा ले रहे होंगे आजकल ☺☺☺

प्रवीण पाण्डेय said...

कईयों का रोजगार चमक जायेगा, कई बेरोजगार हो जायेंगे।

Arvind Mishra said...

इन बकचोदों के चक्कर में काहें अपनी बोली भाषा खराब कर रहे हैं :)

ajit gupta said...

अरे बाप रे, काहे मरे को मार रहे हैं।

सञ्जय झा said...

is tarah ke 'santai' ke liye hamne socha aap bajariye 'baltiyan baba'
samjhayenge, lekin ye to bajariye
'lanthiyan baba' ke aapne samjhaya
hai....

jai ho.

देवेन्द्र पाण्डेय said...

ha ha ha....मस्त है।

फोटो ब्लॉग 'Thoughts of a Lens'

फोटो ब्लॉग 'Thoughts of a Lens'
A Photo from - Thoughts of a Lens

ढूँढ ढाँढ (Search)

© इस ब्लॉग की सभी पोस्टें, कुछ छायाचित्र सतीश पंचम की सम्पत्ति है और बिना पूर्व स्वीकृति के उसका पुन: प्रयोग या कॉपी करना वर्जित है। फिर भी; उपयुक्त ब्लॉग/ब्लॉग पोस्ट को हापइर लिंक/लिंक देते हुये छोटे संदर्भ किये जा सकते हैं।




© All posts, some of the pictures, appearing on this blog is property of Satish Pancham and must not be reproduced or copied without his prior approval. Small references may however be made giving appropriate hyperlinks/links to the blog/blog post.