सफेद घर में आपका स्वागत है।

Tuesday, October 25, 2011

तुम जाता कि नईं रे......

...........

- आमरा बेटी को जेल से छुड़ा के लाना.....खाली हाथ वापस आएंगा तो ये झाडू तेरा पिच्छू करके मोर जइसा बना देन्गा

- अइयो रामा....उधर वो जज लोग मेरा वकील का नई सुनता......दिल्ली वाला मैडम भी दूर दूर रेता .....पी यम भी नई सुनना मांगता.........तुम भी मेरा नई सुनना मांगता....बोलो मय क्या करना....

-ए डेय....तुम क्या करना वो तुमको मालूम.....मेरे कू मेरा बेटी दीवाली का टाईम घर में मांगता.....

- हलवा नई जी..... जज लोग बोलेन्गा तबिच तुमारा बेटी छूटेन्गा जेल से.....नईं तो कइसा लाएन्गा तुमिच सोचो....

- वो आमको कुच नईं मालूम.....आमको आम्रा बेटी मांगता......दीवाली टाइम लेके आना नई तो याद रखना....

- अइयो तुम आमको क्या समजा जी....आय एम पास्ट सी यम्म ....अइसा उंगली दिखा के मेरा से बात मत करना....

- आ रे सी यम्म.....येक बेटी को जेल से छुड़ा के लाना नईं होने को सकता.....सी यम्म....येन्ड रासकला...

- डेय....अन्गा डेय.....

- जा रे.....बड़वा.....

- इंगा पो......झाडू नईं मारना.....झाडू नईं मारना....अइयो कल्ला....अइयो...दया...

- चिल्ला अउर किसको बुलाना तू सबको बुला......आम नईं रूकेन्गा.....आमको आम्रा बेटी मांगता...

- झाड़ू मारने से तुम्रा बेटी आएन्गा क्या....

- वो आमको नई मालूम......आम्रा बेटी मांगता.....तुम जाज लोग का नईं सांबाल सकता तो पोलिस, बीलीस को तो संबाल सकता ना......क्यो वो बी मइच बताना.....

- बोले तो...

- बोले तो पोलीस बिलीस पानी पिलाना....तोड़ा मक्कन लगाना.....कइसा बी करके अपील नईं करना.....आमरा बेटी छूटता तो छूटने दो.....अपील नईं करना....

- लेकिन...

- तुम जाता क्या नईं रे...

- आम जाता....लेकिन ....

- .रासकला....सब गड़बड़ घोटल तुम लोग करेन्गा अउर फसायेन्गा आम्रा बेटी को.....इडियटा....डेय

- डेय....डेय.....

- ये झाड़ू देखता ना....एकदम मोर बना देन्गा...मोर  :-)


- सतीश पंचम

10 comments:

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

यसको अब्बी का अब्बी भेजने का!
राइटो?
पंचम जी,
मित्रों, परिजनों के साथ आपको भी पर्व की मंगलकामनायें! तमसो मा ज्योतिर्गमय!

Kajal Kumar said...

न्यापालिका भी अगर इनके हत्थे चढ़ गई होती तो इनमें से हर कोई दिवाली घर ही मना रहा होता...

Gyandutt Pandey said...

सुना है, सीबीआई का विचार तो है कि दिवाली घर पर मने पर जज हैं कि इस बन्दे को मोर ही बनाना चाहते हैं! :)

Ratan Singh Shekhawat said...

दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

way4host
RajputsParinay

संगीता पुरी said...

.. आपको दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

मनोज कुमार said...

प्यार हर दिल में पला करता है,
स्नेह गीतों में ढ़ला करता है,
रोशनी दुनिया को देने के लिए,
दीप हर रंग में जला करता है।
प्रकाशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!!

प्रवीण पाण्डेय said...

जिसकी भी जहाँ दीवाली मने, अच्छे से मने।

devendra pandey said...

अई यै यै यो.....तुम ने मेरा दुःख समझा...अच्छा लिका...मेरा राज आयेन्गा..न...तुमको..देने का..वो कहते हैं न..अच्छा लिकने वाले को देने का ..उईच। तुम को माई का दुआ मिलना...खूब दिवाली मनाना..खुश रहना।

सञ्जय झा said...

aisaich nai chalega.......


jai ho.

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

आपको गोवर्धन अथवा अन्नकूट पर्व की हार्दिक मंगल कामनाएं,

फोटो ब्लॉग 'Thoughts of a Lens'

फोटो ब्लॉग 'Thoughts of a Lens'
A Photo from - Thoughts of a Lens

ढूँढ ढाँढ (Search)

© इस ब्लॉग की सभी पोस्टें, कुछ छायाचित्र सतीश पंचम की सम्पत्ति है और बिना पूर्व स्वीकृति के उसका पुन: प्रयोग या कॉपी करना वर्जित है। फिर भी; उपयुक्त ब्लॉग/ब्लॉग पोस्ट को हापइर लिंक/लिंक देते हुये छोटे संदर्भ किये जा सकते हैं।




© All posts, some of the pictures, appearing on this blog is property of Satish Pancham and must not be reproduced or copied without his prior approval. Small references may however be made giving appropriate hyperlinks/links to the blog/blog post.